Monday, March 4, 2024
spot_img

बुढापे में इश्क का चढा बुखार, तो प्रेमिका ने लगा दिया लाखों का चूना।

बुढापे में इश्क का एसा बुखार बढा की प्रेमिका के जाल में एसे फंस गये, और लाखों रुपये प्रेमिका पर लुटा दिये, फिर शादी से पहले प्रेमिका एसी फरार हुई की बुजुर्ग प्रेमी तलाशता ही रह गया, धोखा खाये बुजुर्ग प्रेमी ने आखिर अपनी प्रेमिका के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही की मांग की है। जी हां ये लव स्टोरी सच्ची है, एक रिटायर्ड बैंक कर्मचारी की, जो पहली पत्नी से तलाक के बाद अपना अकेलापन दूर करने के लिए एक महिला के जाल में एसा फंस गया कि उसका सब कुछ लुट गया, कैसे अपने से 18 साल छोटी महिला से दिल लगा बैठा बैंक रिटायर्ड कर्मचारी, और कैसे लुटेरी प्रेमिका ने लूटे 80 लाख देखें ये रिपोर्ट।
देहरादून के खुशीराम (63) का पहली पत्नी से तलाक हो गया था। जीवन अकेले न काटना पड़े, इसलिए उन्होंने शादी करने के लिए एक विज्ञापन दिया। विज्ञापन देखकर प्रीति रावत नाम की महिला ने उनसे संपर्क किया।सेवानिवृत्त बुजुर्ग खुद से 18 साल छोटी महिला को पहली ही मुलाकात में दिल दे बैठे। मुलाकातें बढ़ती गईं और बात शादी तक पहुंच गई। इस बीच बुजुर्ग इस महिला को 80 लाख रुपये भी दे बैठे। महिला ने कभी प्लॉट तो कभी मकान बनवाने के नाम पर यह रकम ऐंठ ली। जब शादी का दिन आया तो नंबर बंद कर चंपत हो गई। बुजुर्ग ने खोजबीन की लेकिन मायूस होकर पुलिस से शिकायत करनी पड़ी। पुलिस ने महिला के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। खुशीराम (63) निवासी पटेलनगर ने पुलिस से शिकायत की है।
सुखीराम ने बताया कि प्रीति रावत की उम्र करीब 43 वर्ष और खुद को प्रॉपर्टी डीलर बताती थी । दोनों की पहली मुलाकात दिसंबर 2021 में आईएसबीटी के पास एक मॉल में हुई। उसने खुद को तलाकशुदा बताया। इस मुलाकात में ही दोनों ने शादी तक की बात तय कर ली।  दिसंबर 2021 से मई 2022 तक खुशीराम ने महिला के खातों में कुल 70 लाख रुपये जमा करा दिए। लेकिन, जब खुशीराम उसका पता पूछते तो वह कभी कैनाल रोड तो कभी जाखन बताती थी। इस पर जब उसने 10 लाख रुपये की और मांग की तो बुजुर्ग ने मना कर दिया।
मगर, प्रीति की बातों में आकर यह रकम भी दे बैठे। महिला के कहने पर खुशीराम ने एक फ्लैट भी खरीद लिया। इसमें दोनों ने शादी के बाद के सपने देखने शुरू कर दिए। पांच अक्तूबर 2022 की तिथि शादी के लिए तय कर ली। मंदिर में पुजारी से बात भी हो गई। खुशीराम सब इंतजाम कर मंदिर पहुंच गए लेकिन प्रीति शाम तक भी नहीं पहुंची। फोन पर फोन किए लेकिन कोई जवाब नहीं आया। देर शाम उसने अपना मोबाइल भी बंद कर लिया। इंस्पेक्टर सूर्यभूषण नेगी ने बताया कि खुशीराम की शिकायत पर प्रीति रावत उर्फ निशा पुंडीर नाम की इस महिला के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

ताजा खबरे