Thursday, December 1, 2022
spot_img

उत्तराखण्डः यूनियन बैंक को करोड़ों का चूना लगाने वालों के खिलाफ सीबीआई ने दर्ज किया मुकदमा! क्रेडिट सुविधा के जरिए किया बड़ा फर्जीवाड़ा

देहरादून। यूनियन बैंक को करोड़ों का चूना लगाने वाली कंपनी, कंपनी संचालकों समेत बैंक के अज्ञात अफसरों के खिलाफ सीबीआई ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। बताया जा रहा है कि रेडिमेड गारमेंट और अन्य कारोबार करने वाली कंपनी के संचालकों ने क्रेडिट सुविधा के जरिये ये फर्जीवाड़ा किया। बाद में जिन खातों से लोन की किश्तें आनी थीं वह निष्क्रय पाए गए। सीबीआई की दून शाखा में इस संबंध में यूनियन बैंक आफ इंडिया के स्ट्रैस्ड असिस्टेंट मैनेजमेंट शाखा, नई दिल्ली के डिप्टी जनरल मैनेजर संजय मिनोचा ने 19 अगस्त 2018 को शिकायत दर्ज करवाई थी। उन्होंने बताया कि मैसर्स शीन सोर्सिंग एंड बाइंग प्राइवेट लिमिटेड और मैसर्स किड्स स्टफ ने अप्रैल 2012 में बैंक की नोएडा ब्रांच में क्रेडिट लिमिट पर लोन लेने के लिए संपर्क किया। 11 जून 2012 को मैसर्स शीन सोर्सिंग एंड बाइंग प्राइवेट लिमिटेड को मैसर्स किड्स स्टफ में विलय किया गया, इस संबंध में उन्होंने सर्टिफिकेट भी जमा करवाया। कंपनी ने टर्म लोन व वाहन लोन के लिए आवेदन किया था। ऐसे में बैंक की ओर से उन्हें 18.49 करोड़ रुपये का ऋण जारी किया गया। इसके बाद कंपनी की ओर से किश्तें नहीं चुकाई गईं। साथ ही जिन बैंक खातों से किश्तें आनी थीं, वह एनपीए पाए गए। सीबीआइ की ओर से शीन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड कंपनी की निदेशक अपूर्वा जोशी निवासी सेक्टर 50, नोएडा, गीतिका कवीरा निवासी सेक्टर 50 नोएडा, हरीश चंद्र सिंह कवीरा निवासी पार्श्वनाथ प्लेटिनम अपार्टमेंट, स्वरंगपुरी ग्रेटर नोएडा, आदेश भट्ट निवासी सेक्टर बीटा सेकेंड, ग्रेटर नोएडा, राज भाटी निवासी सेक्टर बीटा सेकेंड, नोएडा, सर्वेश्वर क्रिएशन लिमिटेड ललिता पार्क, लक्ष्मी नगर दिल्ली समेत अज्ञात सरकारी कर्मचारी और अन्य निजी लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

ताजा खबरे