Monday, April 15, 2024
spot_img

दवाई किसी कम्पनी की और रेपर किसी और कंपनी का लगाकर किया जा रहा गुमराह।  

ड्रग्स विभाग की टीम ने स्थिति दवाई की फैक्ट्री का औचक निरीक्षण किया जिसमें दूसरी कंपनी का रेपर बदल कर अपनी कंपनी का रेपर लगाया जा रहा था। निरीक्षण करने पहुंची ड्रग्स विभाग अधिकारी अनिता भारती ने कंपनी का चल रहा प्रोडक्शन बंद कर दिया है। निरीक्षण के दौरान फैक्टरी में दवाइया भी खुली पड़ी हुई थी और साथ ही कई दवाइयों के रेफर भी खुले में पड़े हुए थे। ड्रग्स विभाग के निरीक्षण के बाद दवाई फैक्ट्री में हड़कंप मचा रहा। वही दवाइयों की फैक्ट्री में इतनी बड़ी लापरवाही उजागर होने के बाद दवाइयों की गुणवत्ता पर भी सवाल खड़ा हो गया है। दरअसल ड्रग्स इंस्पेक्टर अनीता भारती मंगलौर इस्थीत जेबी रेमेडिस फैक्ट्री में निरीक्षण करने पहुंची थी फैक्टरी में कई महत्त्वपूर्ण दवाइयों खुली पड़ी हुई थी दूसरी कंपनी की दवाइयों को अपनी कंपनी का लेबल देकर तैयार किया जा रहा था। जिसमे ड्रग के सभी नियमों का उल्लंघन किया गया था। ड्रग्स विभाग की निरीक्षण के दौरान दवाई का प्रोडक्शन को बंद कर दिया है और कंपनी के दस्तावेजों की जांच की जा रही है। दवाई फैक्ट्री में इस दे की लापरवाही पाए जाने के बाद दवाइयों की कंपनी पर स्वलियानिशा खड़ा हो गया है इससे पहले भी भगवानपुर की एक दवाई फैक्ट्री में एक्सपायरी डेट की दू ब्रांड की गई थी जिनकी डेट बदल कर बाजार में बेची जा रही थी। स्वास्थ्य विभाग को ऐसी सभी दवाइयों की फैक्ट्री का निरीक्षण करना चाहिए। जिसमे रेफर बदल कर दवाइयों को बाजार में उतारा जा रहा है और मासूम जिंदगियों के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

ताजा खबरे