Thursday, February 2, 2023
spot_img

हेल्थ टिप्स : इम्यूनिटी बूस्ट करे सहजन की पत्तियां, इसके सेवन से होंगे कई लाभ

हेल्थ टिप्स ::- कई औषधीय गुणों से युक्त होती हैं, जिसका इस्तेमाल सदियों से रोगों के इलाज में किया जाता है। सहजन के तने, पत्ते, छाल, फूल, फल और कई अन्य भागों का अलग-अलग तरीकों से इस्तेमाल किया जा सकता है। क्योंकि सहजन का पेड़ जड़ से लेकर फल तक बहुत ही गुणकारी होता है। सहजन में एंटीफंगल, एंटीवायरल, एंटी डिप्रेसेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण भी पाए जाते हैं।

इसकी पत्तियों को कच्चा, पाउडर या जूस के रूप में सेवन किया जा सकता है। सहजन की फली, हरी पत्तियों व सूखी पत्तियों में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम, पोटेशियम, आयरन, मैग्नीशियम, विटामिन-ए, सी और बी कॉम्‍प्लेक्स भरपूर मात्रा में पाया जाता है।


हार्ट के लिए – सहजन की पत्तियों के फायदे दिल को खराब कोलेस्‍ट्रॉल के प्रभाव से बचा सकते हैं। इन पत्तियों में ओमेगा-3 फैटी एसिड की अच्‍छी मात्रा होती है जो कोलेस्‍ट्रॉल के स्‍तर को कम कर सकती है जिससे हृदय संबंधी समस्‍याओं को दूर करने में मदद मिल सकती है।

इम्यूनिटी मजबूत – सहजन के पत्‍तों में बहुत सारे एंटीऑक्‍सीडेंट और विटामिन होते हैं जो प्रतिरक्षा कोशिकाओं की कार्य क्षमता को बढ़ाने और वायरस या बैक्‍टीरिया के प्रभाव को कम करने में सहायक होते हैं।

इन्फेक्शन – मोरिंगा की पत्तियां एंटीमाइक्रोबियल और एंटीबैक्टीरियल गुणों से भरी होती हैं, जो स्किन इंन्फेक्शन, यूरिन इन्फेक्शन और पाचन से जुड़ी दिक्कतो से लड़ते हैं।

खून को साफ – सहजन की पत्तियों का इस्तेमाल खून को साफ करने के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। सहजन की पत्तियों में मौजूद गुण खून को डिटॉक्सिफाई करने का काम करता है। इसका जूस पीने से शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थ यूरिन के जरिए बाहर निकल जाते हैं।

अल्सर के लिए – सहजन की पत्तियों का सेवन करने से पेट से जुड़ी समस्याओं को कम किया जा सकता है। इसमें एंटी-अल्सर गुण मौजूद होते हैं, जिस कारण ये अल्सर के जोखिम से बचाव करने में मददगार हो सकती है।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

ताजा खबरे