Thursday, February 9, 2023
spot_img

एक शिक्षक ऐसा भी! पढ़ाने के लिए कॉलेज में नहीं मिले विद्यार्थी तो प्रो ने लौटाई लाखों रुपए की फीस

आज वर्तमान में जहां एक ओर पैसों के लिए अपने ही अपनो के दुश्मन बन जाते हैं, तो वहीं एक और दुनिया में आज भी ऐसे लोग हैं, जिनके लिए पैसों के कोई मायने नहीं हैं, ऐसे ही एक शख्स है बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के नीतीश्वर कालेज के हिंदी विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. ललन कुमार जिन्होंने क्लास में स्टूडेंट न आने पर अपनी दो साल से ज्यादा की सैलरी कॉलेज प्रशासन को वापस कर दी है। प्रोफेसर ने अपनी दो साल से अधिक की लगभग 24 लाख सैलरी लौटाई है।

प्रोफेसर ने चेक के माध्यम से करीब ₹24 लाख रुपए विश्वविद्यालय को वापस करने का आवेदन किया है।
असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. ललन कुमार ने बताया की उनकी क्लास में स्टूडेंट्स की उपस्थिति लगातार शून्य रहती थी। संबंधित अधिकारियों से इस बारे में चर्चा होने के बाद भी कोई निष्कर्ष नहीं निकला तो उन्हें यह कदम उठाना पड़ा। जिसमे प्रोफेसर ने 2 साल 9 माह के कार्यकाल की पूरी सैलरी 23 लाख 82 हजार 228 रुपए लौटा दी।
प्रोफेसर ने अपनी तनख्वाह की राशि का चेक बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ. आर के ठाकुर को सौंपते हुए कहा की ” मैं नीतीश्वर कॉलेज में अपने अध्यापन कार्य के प्रति कृतज्ञ महसूस नहीं कर रहा हूं, तो अब यह फैसला लेना पड़ा है, क्योंकि दिल्ली से पढ़ाई करने के बाद बीपीएससी परीक्षा को पास कर यह शिक्षक की नौकरी मिली। उन्होंने कहा कि उन्हें यहां पढ़ाई का माहौल नहीं दिखा तो विश्वविद्यालय से आग्रह किया कि उन्हें उस कॉलेज में स्थानांतरित किया जाए जहां पर एकेडमिक कार्य करने का मौका मिले।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

ताजा खबरे