Monday, February 6, 2023
spot_img

गौरवांवित पल! जस्टिस सुधांशु धूलिया ने ली सुप्रीम कोर्ट के जज के रुप में शपथ, जानिए कौन हैं उत्तराखंड से खास नाता रखने वाले जस्टिस सुधांशु धूलिया

नई दिल्ली। गुवाहाटी उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया और गुजरात उच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति जमशेद बी पारदीवाला ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में शपथ ग्रहण की। भारत के मुख्य न्यायाधीश एन वी रमना ने शीर्ष अदालत के अतिरिक्त भवन परिसर के नवनिर्मित सभागार में न्यायमूर्ति धूलिया और परदीवाला को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई।इसके साथ ही जस्टिस धूलिया उत्तराखंड हाईकोर्ट से सुप्रीम कोर्ट आने वाले दूसरे जज बन गए हैं।

न्यायमूर्ति धूलिया और न्यायमूर्ति पारदीवाला की नियुक्ति के साथ ही अब सुप्रीम कोर्ट को कुल 34 न्यायाधीशों की ताकत मिल गई है, जो इस साल 4 जनवरी को न्यायमूर्ति आर सुभाष रेड्डी की सेवानिवृत्ति के बाद घटकर 32 हो गई थी। वहीं सुप्रीम कोर्ट में अब कोई पद रिक्त नहीं है।

कौन है जस्टिस धूलिया

जस्टिस धूलिया का जन्म 10 अगस्त 1960 को लैंसडाउन, पौड़ी गढ़वाल में हुआ था और उनकी प्रारंभिक शिक्षा देहरादून और इलाहाबाद में हुई थी।वह सैनिक स्कूल, लखनऊ के पूर्व छात्र हैं। जिसके बाद उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से लॉ में स्नातक किया है। न्यायमूर्ति धूलिया 1986 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय में बार में शामिल हुए और 2000 में इसके गठन पर अपने गृह राज्य उत्तराखंड में स्थानांतरित हो गए। वह उत्तराखंड उच्च न्यायालय में पहले मुख्य स्थायी वकील थे और बाद में उत्तराखंड राज्य के लिए एक अतिरिक्त महाधिवक्ता थे. उन्हें 2004 में एक वरिष्ठ अधिवक्ता के रूप में नामित किया गया था.
वहीं, नवंबर 2008 में उत्तराखंड के उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में जस्टिस धूलिया को पदोन्नत किया गया था. बाद में 10 जनवरी 2021 को असम, मिजोरम, नागालैंड और अरुणाचल प्रदेश के उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश बने।

वहीं जस्टिस जमशेद बरजोर पारडीवाला सुप्रीम कोर्ट में नियुक्ति से पहले गुजरात हाई कोर्ट के जज थे। उनका जन्म 12 अगस्त 1965 को मुंबई में हुआ था। वह गुजरात के नवसारी और वलसाड परिवार से ताल्लुक रखते हैं।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

ताजा खबरे