Saturday, May 25, 2024
spot_img

केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री ने केंद्र सरकार के उपक्रम रक्षा जैव ऊर्जा अनुसंधान संस्थान गोरापडाव में निरीक्षण व संस्थान के जैव ऊर्जा के क्षेत्र में किये गए कार्य को लेकर बैठक में किया प्रतिभाग

नैनीताल ::- केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री ने मंगलवार को केंद्र सरकार के उपक्रम रक्षा जैव ऊर्जा अनुसंधान संस्थान गोरापडाव में निरीक्षण व संस्थान के जैव ऊर्जा के क्षेत्र में किये गए कार्यकलाप का विवरण को लेकर की गई बैठक में प्रतिभाग किया । संस्थान प्रमुख देवकान्त पहाड़ सिंह ने रक्षा मंत्रालय के अंर्तगत रक्षा जैव ऊर्जा अनुसंधान संस्थान , हल्द्वानी मे चल रहे शोध कार्यो जैसे उच्च तुंगता वाले ग्रिड रहित क्षेत्रों के लिए ऊर्जा की वैकल्पिक व्यवस्था हेतु नई तकनीकों के विकास , डीजल इलैक्ट्रिक हाइब्रिड जेनेरटर , फ्युल सेल एवं सौर ऊर्जा आधारित हाइब्रिड एनर्जि सिस्टम का विकास , पीरुल आधारित गैसीफायर द्वारा बिजली उत्पादन तकनीकी का विकास एवं प्रदर्शन , बायो गैस आधारित उन्नत ऊर्जा उत्पादन इकाई तथा पवन ऊर्जा आधारित ऊर्जा प्रणाली एवं तकनीकी आदि पर नए अनुसन्धान की जानकारी दी । संस्थान द्वारा किसानो के सहयोग के लिए किए जा रहे अनुसंधान जैसे उन्नत गुणवत्ता के हल्दी किस्मों का मसाला अनुसंधान केंद्र केरल से लाकर उत्पादन , निर्यात के लिए विदेशी सब्जियों का प्रदर्शन एवं शोध तथा ड्रोन तकनीकी का कृषि में प्रयोग आदि का आज केंद्रीय राज्य मंत्री ने अवलोकल किया तथा संस्थान की सराहना की । संस्थान द्वारा बनाई गई हर्बल दवाईयों जैसे सफ़ेद दाग की दवा जो लोगो के लिए बहुत हितकारी है , की सराहना भी भट्ट द्वारा की गयी । वही आज संस्थान के निदेशक देवकांत पहाड सिंह ने बताया कि संस्थान से संचालित ओली और पिथौरागढ़ केंद्र भी है डिबेर द्वारा विकसित तकनीके किसानो तक पहुँचा रहे है । माननिए आरआरएम द्वारा प्रदेश हित को ध्यान में रखते हुए मोटे अनाजों पर भी शोध करने की और विभिन्न तकनीकों के स्वदेशीकरण को makein इंडिया के साथ तालमेल बनाने की भी सलाह दी गयी ।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

ताजा खबरे